राज और समाज पर खरी आवाज

Website templates

सोमवार, 18 जनवरी 2016

किसिम किसिम की मौत

(1)
ज्यादातर लोग मौत से डरते हैं,
पर कुछ लोग मौत को डराते हैं।

कुछ लोग एक बार मरते हैं,
ज्यादातर लोग रोज कई बार मरते हैं।

कुछ लोग मर कर भी जिन्दा रहते हैं,
ज्यादातर लोग जीते जी मर जाते हैं।

कुछ लोगों को मौत खुद लेने आती है,
पर कुछ लोग मौत के पास जाते हैं।।


(2)
इन सब से अलग भी कुछ लोग हैं,
जो लोगों के मरने का इंतज़ार करते हैं|

मौत चाहे दंगे में हो, या दर्द से हो,
मौत चाहे भूख से हो या बीमारी से।

भागलपुर, दिल्ली में हो या गुजरात में,
मौत लक्ष्मणानंद की हो या अखलाख की।

ये लोग हैं जो मौत पर जश्न मानते हैं,
ये वही हैं जो मौत पर सियासत करते हैं।।


(किसी की मौत पर, पर वो कोई एक नहीं। ऐसी मौतें रोज होती हैं पर चर्चा किसी एक की होती है।)





किस शहर से आए हैं

कहां - कहां से

Related Posts with Thumbnails